top of page
Search

यज्ञ के धुएँ एवं साधारण धुएँ मे अन्तर

Updated: May 30, 2020

यज्ञ के बारे में कहा जाता है कि उसके धुएँ से वायु प्रदूषण दूर होता है, परंतु यज्ञ के दौरान निकलते हुए धुए को देख कर ये सवाल आपके मन भी उठते होंगे की इतना सारा धुआँ जो निकल रहा है ये तो खुद ही प्रदूषण करेगा, उसे ठीक कैसे करेगा । प्रचलित मान्यताओं के अनुसार किसी भी धुएँ को छोड़ने से वह स्थान कीटाणु निरोधक हो जाता है और कीटाणु व कीड़े- मकौड़े भाग जाते हैं तो फिर यज्ञ मे ऐसा क्या खास है?


इसी को देखने के लिए भारत सरकार की एक वरिष्ठ अधिकारी, श्रीमती ममता सक्सेना ने सेंट्रल पोल्लुशन कंट्रोल बोर्ड के साथ मिलकर 2 प्रयोग किए ।


एक स्थान पर देसी घी और हवन सामग्री व मंत्रो के साथ विधिवत हवन किया और उसी समय दूसरे स्थान पर सामान्य लकड़ियाँ जलायीं गयीं । दोनों स्थानों पर वायुमंडल की एक दिन पूर्व बैक्ग्राउण्ड की सैमपलिंग की , हवन वाले दिन और एक दिन बाद वायुमंडल मे व्याप्त कीटाणुओं की संपलिंग के गयी तो नतीजे काफी चौंकाने वाले थे |

यज्ञ मे देखा गया कि जहाँ पर यज्ञ किया गया था वहाँ एक दिन पहले की तुलना मे यज्ञ वाले दिन व उसके बाद दूसरे दिन बैकटीरिया की संख्या मे 40% व 21% कमी देखी गयी, वही जहाँ पर साधारण धुआँ किया गया था वहाँ 81% और 111% की बढ़ोत्तरी देखी गयी. इसी प्रकार फंगस की कीटाणुओं मे भी देखा गया कि यज्ञ वाले स्थान पर तो 37% व 16% कमी हुई थी परंतु साधारण धुएँ वाले स्थान पर उनमे 71% व 257% की बढ़ोत्तरी दर्ज की गयी थी ।




शोधपत्र को लिए पढ़ने के लिए दिए हुए लिंक पर क्लिक करें


65 views0 comments

Recent Posts

See All

यज्ञोपैथी अनुभव : रश्मि प्रिया

मेरा नाम रश्मि प्रिया है | मैं अपने यज्ञ सम्बंधित कुछ अनुभव शेयर करना चाहती हूँ| मेरी शादी को सात साल हो गए और मेरे दो बच्चे हैं| मैं अपने सिर सम्बन्धी कई समस्याओं से परेशान रहती थी| कहीं भीड़ में जाना

यज्ञोपैथी : यज्ञ द्वारा मधुमेह के रोगियों की चिकित्सा

गायत्री चेतना केंद्र, नोएडा में 11 डायबिटिक रोगियों पर अप्रैल 2019 में एक माह का उपचार सत्र कार्यान्वित किया गया | इसमें निर्धारित प्रारूप के अनुसार 1 घंटे के उपचार की प्रक्रिया अपनाई गई जिसमें औषधीय

कैंसर का इलाज करने के लिए वेदों में वर्णित यज्ञ चिकित्सा

प्राचीन आयुर्वेद ग्रंथों के विद्वानों के अनुसार, एक सौ और आठ प्रमुख नाभिक केंद्र हैं जो मानव शरीर के अंदर सबसे महत्वपूर्ण प्राण ऊर्जा का स्रोत और (महत्वपूर्ण आध्यात्मिक ऊर्जा) के भंडार हैं। इनमें से क

Comments


bottom of page